गिलोय के शीर्ष 12 अविश्वसनीय स्वास्थ्य लाभ

पुराने समय में, हमारे माता-पिता और दादा-दादी अक्सर अपने दैनिक जीवन में विभिन्न प्रकार के मसालों और जड़ी-बूटियों का उपयोग करते थे, और इससे उन्हें बहुत स्वस्थ जीवन जीने में मदद मिली। आज के आधुनिक अस्तित्व में सभी आराम और तकनीक के बीच, हमारे जीवन में कई पहलुओं में काफी सुधार हुआ है, हालांकि, उस पुरानी शैली के जीवन के बारे में कुछ प्रभावशाली था। उनका चयापचय उल्लेखनीय था और उनकी प्रतिरक्षा प्रणाली प्रभावशाली थी, उन्होंने अपने आहार में प्राकृतिक जड़ी-बूटियों और मसालों को शामिल करके यह सब हासिल किया। 

ऐसी ही एक अद्भुत, शक्ति से भरपूर जड़ी-बूटी है गिलोय (वैज्ञानिक नाम – टिनोस्पोरा कॉर्डिफोलिया), एक आयुर्वेदिक चढ़ाई वाली झाड़ी है जिसका उपयोग भारतीय चिकित्सा प्रणाली में सदियों से किया जाता रहा है। गिलोय के स्वास्थ्य लाभ काफी मात्रा में हैं, यहाँ सबसे अविश्वसनीय गिलोय स्वास्थ्य लाभों में से शीर्ष 12 की सूची दी गई है: 

गिलोय के शीर्ष 12 परम स्वास्थ्य लाभ 

1. डेंगू बुखार में गिलोय के फायदे

गिलोय ज्वरनाशक प्रकृति का होता है (जो बुखार को कम करता है)। यह डेंगू, स्वाइन फ्लू और मलेरिया जैसी कई जानलेवा स्थितियों के खिलाफ प्रभावी है। गिलोय डेंगू बुखार में प्लेटलेट काउंट को बढ़ाता है, प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करता है, स्वास्थ्य संबंधी जटिलताओं की संभावना को कम करते हुए तेजी से ठीक होने में मदद करता है। 

वैज्ञानिक दृष्टिकोण: गिलोय अपने ज्वरनाशक और सूजनरोधी प्रकृति के कारण संक्रमण से लड़ने में मदद करता है और शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाता है। डेंगू बुखार के दौरान उबले हुए गिलोय के रस का सेवन करने से प्लेटलेट काउंट बढ़ाने में मदद मिलती है। 

आयुर्वेदिक दृष्टिकोण: तुलसी के पत्तों के साथ उबला हुआ गिलोय का रस नियमित रूप से सेवन करने से प्लेटलेट काउंट में सुधार होता है और डेंगू बुखार से लड़ने के लिए प्रतिरोधक क्षमता प्रदान करता है। गिलोय का जावरघना स्वभाव डेंगू बुखार को कम करने के कारण होता है। गिलोय आगे पाचन और अवशोषण में सुधार करके डेंगू से उबरने में मदद करता है। गिलोय की विशिष्ट ‘रसायनिक’ प्रकृति हमारे शरीर को विदेशी जीवों से बचाने में मदद करती है, इस प्रकार हमारी प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करती है। 

गिलोय के रस को पौधे के डंठल से निकाल लें, इसमें 5-6 तुलसी के पत्ते आधा कप पानी के साथ मिलाकर प्रतिदिन सेवन करने से प्लेटलेट्स की संख्या में वृद्धि होती है। 

Read More: Triphala Churna

2. मधुमेह के लिए गिलोय के स्वास्थ्य लाभ 

वैज्ञानिक दृष्टिकोण: गिलोय का सेवन हमारे शरीर के रक्त शर्करा के स्तर को बेहतर बनाने में मदद करता है और इसलिए मधुमेह को प्रबंधित करने में मदद करता है। गिलोय अपने विरोधी भड़काऊ और एंटीऑक्सीडेंट प्रकृति के कारण मधुमेह से संबंधित जटिलताओं जैसे गुर्दे की क्षति, अल्सर और घावों के खिलाफ भी उपयोगी है। 

आयुर्वेदिक दृष्टिकोण: गिलोय को आयुर्वेद में “मधुनाशिनी” (शर्करा का नाश करने वाली) भी कहा जाता है। यह शरीर में इंसुलिन उत्पादन को बढ़ाता है, इस प्रकार रक्त शर्करा के स्तर का प्रबंधन करता है और मधुमेह से संबंधित अन्य जटिलताओं को रोकता है। 

लंच या डिनर के बाद आधा चम्मच गिलोय का चूर्ण पानी के साथ लें। 

3. कैंसर से लड़ने में गिलोय के फायदे 

वैज्ञानिक दृष्टिकोण: इसके साइटोटोक्सिक और इम्यूनोमॉड्यूलेटरी गुणों के लिए धन्यवाद, गिलोय कैंसर के इलाज में मदद करता है और शरीर में कैंसर की दवाओं के दुष्प्रभावों को कम करता है। गिलोय में मौजूद क्वेरसेटिन और रुटिन कैंसर रोधी गुणों के कारण स्तन कैंसर में कोशिकाओं के प्रसार को रोकते हैं। इसके अलावा, गिलोय स्तन कैंसर की कोशिकाओं में कोशिका मृत्यु (एपोप्टोसिस) का कारण बनता है क्योंकि यह एपोप्टोटिक जीन की अभिव्यक्ति को बदल देता है। 

आयुर्वेदिक दृष्टिकोण: गिलोय को अमृत का भारतीय नाम ‘अमृत’ भी कहा जाता है। गिलोय हमारे शरीर में वात-पित्त-कफ को संतुलित करने में मदद करता है, इस प्रकार हमारे शरीर में कैंसर पैदा करने वाली कोशिकाओं के प्रसार और विकास को नियंत्रित करता है। 

Read More: Ashwagandha Churna

4. उच्च कोलेस्ट्रॉल के मुद्दों को संबोधित करने में गिलोय के लाभ 

गिलोय हमारे शरीर के चयापचय में सुधार करके और उच्च कोलेस्ट्रॉल के पीछे के विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालकर उच्च कोलेस्ट्रॉल के स्तर को नियंत्रित करने में उपयोगी है। ऐसा गिलोय के पचन (पाचन), दीपन (भूख बढ़ाने वाला), और रसायन (रासायनिक रूप से कायाकल्प करने वाली) प्रकृति के कारण होता है। 

5. गिलोय एंटी ऑक्सीडेंट्स से भरपूर होता है 

गिलोय विभिन्न पौधों के यौगिकों जैसे अल्कलॉइड, फेनोलिक्स, लिग्नन्स, टेरपेनोइड्स और स्टेरॉयड से भरपूर है। इनमें से कुछ यौगिक एंटीऑक्सिडेंट के रूप में कार्य करते हैं, इस प्रकार मुक्त कणों से छुटकारा दिलाते हैं और संक्रमण के कारण होने वाले ऑक्सीडेटिव तनाव को कम करते हैं। गिलोय में स्वाभाविक रूप से मौजूद एंटीऑक्सीडेंट की प्रचुरता उम्र बढ़ने, कमजोरी, थकान और कोशिका कायाकल्प में उपयोगी होती है। 

6. गठिया और गठिया के लिए गिलोय के फायदे 

पारंपरिक भारतीय दवाएं गठिया और गाउट के इलाज के लिए गिलोय को इसके विरोधी भड़काऊ और गठिया विरोधी गुणों के लिए उपयोग करती हैं। गिलोय हड्डी बनाने वाली कोशिकाओं के विकास को उत्तेजित करता है, अनुसंधान ने इसे संयुक्त-उपास्थि मोटाई को पुनर्जीवित करने और ऑस्टियोपोरोसिस को कम करने के लिए दिखाया है।  

गिलोय के चूर्ण को एक गिलास गर्म दूध में मिलाकर पीने से जोड़ों का दर्द दूर होता है। 

7. गिलोय हेपेटोप्रोटेक्टिव है (लिवर डैमेज से बचाता है) 

गुडूची सतवा, एक आयुर्वेदिक सूत्रीकरण, शराब की अधिक मात्रा के कारण लीवर की चोटों के खिलाफ उपयोगी है और लीवर सिरोसिस के खिलाफ सहायक है। गिलोय फैटी लीवर की स्वास्थ्य स्थितियों में सहायक होता है, और यह लीवर में कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करता है। यह एंटीऑक्सिडेंट एंजाइमों में सुधार करता है और इसे डिटॉक्सिफाई करके और लीवर को फ्री रेडिकल्स से होने वाले नुकसान से बचाकर समग्र लिवर की कार्यप्रणाली को बढ़ाता है। 

Read More: guduchi

8. श्वसन रोगों के लिए गिलोय 

गिलोय का एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण सांस की तकलीफ, सीने में जकड़न, सर्दी, घरघराहट, खांसी और टॉन्सिल जैसी सांस की समस्याओं को कम करने में मदद करता है । डॉक्टर गिलोय का रस पीने या गिलोय की जड़ को रोजाना चबाने की सलाह देते हैं, क्योंकि यह सांस की बीमारियों के इलाज में मदद करता है। 

9. गिलोय इम्युनिटी बूस्टर है 

गिलोय शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता और जीवन शक्ति को बढ़ाता है। यह जड़ी बूटी एंटीऑक्सिडेंट का एक पावरहाउस है जो मुक्त कणों से बचाने और शरीर के विषाक्त पदार्थों को खत्म करने में उपयोगी है। गिलोय का रस यूटीआई, हृदय रोग और लीवर की बीमारियों के खिलाफ भी शरीर की मदद करता है। 

10. गिलोय पाचन को बढ़ावा देता है 

गिलोय पाचन प्रक्रिया में सुधार, आंत्र से संबंधित मुद्दों का इलाज करने और दस्त, उल्टी और अति अम्लता जैसे पाचन मुद्दों से बचाने में बहुत प्रभावी है। गिलोय का जूस या पाउडर के रूप में रोजाना सेवन करना आपके पाचन तंत्र को मजबूत करने का एक बेहतरीन तरीका है।  

एक गिलास गुनगुने पानी में आधा चम्मच गिलोय का चूर्ण डालकर रोजाना पीने से कब्ज दूर होती है।

11. गिलोय दृष्टि में सुधार करता है 

गिलोय को आंखों पर (आमतौर पर पंचकर्म में प्रयोग किया जाता है) लगाया जाता है क्योंकि यह आंखों की रोशनी बढ़ाने में बहुत फायदेमंद होता है। 

गिलोय के पत्तों या चूर्ण को उबालकर ठंडा होने पर आंखों पर लगाने से आंखों की रोशनी बढ़ती है। 

12. बढ़ती उम्र के लक्षणों को कम करता है गिलोय 

फ्री रेडिकल्स की मौजूदगी हमारे शरीर में उम्र बढ़ने की प्रक्रिया को बढ़ाती है। गिलोय एंटीऑक्सिडेंट से भरा होता है जो ऑक्सीडेटिव तनाव को रोकता है इसलिए पिंपल्स, फाइन लाइन्स, झुर्रियों और काले धब्बों को कम करता है जिससे आपको स्वस्थ त्वचा मिलती है। 

दूध को गिलोय की छड़ी के साथ उबालें, इसे ठंडा होने दें और स्वस्थ त्वचा के लिए इसका सेवन करें। 

Read More: Gudmar

अन्य पौष्टिक खाद्य पदार्थों के लाभ जानें

आकाश फलस्काई फ्रूट के स्वास्थ्य लाभ
स्ट्रॉबेरीस्ट्रॉबेरी जूस के स्वास्थ्य लाभ
गिलोयगिलोय – अमरता की जड़
चुकंदरचुकंदर के जादुई स्वास्थ्य लाभ
हरा सेबहरे सेब के स्वास्थ्य लाभ
अनारअनार के स्वास्थ्य लाभ
नींबूनीबू के रस के स्वास्थ्य लाभ

अधिकतर पूछे जाने वाले सवालक्या गिलोय के पत्ते खा सकते हैं?

जी हां, स्वस्थ शरीर को बनाए रखने के लिए रोजाना गिलोय के ताजे पत्तों को चबाया जा सकता है।क्या गिलोय के जूस को स्ट्रेस रिलीवर के रूप में लिया जा सकता है?

जी हां, गिलोय मन को शांत करता है। गिलोय को एक एडाप्टोजेनिक जड़ी बूटी (तनाव हार्मोन का प्रबंधन) के रूप में जाना जाता है, यह अति-सक्रिय पैरासिम्पेथेटिक तंत्रिका तंत्र को कम करके तनाव और चिंता को कम करता है।  क्या गिलोय को आंवले के रस के साथ रोज सुबह और रात को सोने से पहले ले सकते हैं? 

हां, बेहतर परिणामों के लिए इसे सुबह खाली पेट लें। गिलोय और आंवले का जूस रात में लेने से बचें।  

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Discover

Sponsor

spot_imgspot_img

Latest

What You Should Know Before You Do This Asana

Yoga asanas are the physical postures prescribed by the yoga gurus and the Asanas are the yoga asanas which are taken up in order...

Yoga Benefits – Can Yoga Help Lower Your Blood Pressure?

The mind and body connection is well known to promote overall physical and mental health, but now there is scientific evidence to support the...

Benefits of a Yoga Bar – Eating Healthy on the Yoga Diet

Yoga Bar - A way to healthy life Yoga Bar, also known as Yoga Bar Studio, is a contemporary yoga shala, providing a full...

How Yoga Can Help Reduce Symptoms of Depression

Countless possibilities to heal through Yoga There's no denying the benefits of yoga for mental and physical well being. If you were to ask...

Uttanasana Yoga for a Strong Back and Stupendous Flexibility

Uttanasana Yoga is a variant of Ashtanga Yoga that is very popular in the West. Ashtanga is a series of poses and exercises derived...